Permanent Driving License कैसे बनवाए ?

Permanent Driving License कैसे बनवाए ?

Permanent Driving License कैसे बनवाए ? – हम सभी को पता है एक वाहन चलाने वाले व्यक्ति के लिए ड्राइविंग लाइसेंस कितना जरूरी होता है।भारत के परिवहन एक्ट में ही साफ तौर पे केह दिया गया है कि बिना ड्राइविंग लाइसेंस के सड़क पर किसी भी प्रकार का वाहन नहीं चलाया जा सकता। अगर कोई इस कानून को तोड़कर बिना लाइसेंस के वाहन चलता है, तो उसे कड़ी से कड़ी सजा दी जाती है व चालान काटा जाता है। सड़क पर वाहन चलाने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना अनिवार्य है। कोई भी कानूनी छान -बिन में भी ड्राइविंग लाइसेंस की जरूरत पड़ती ही है।तो आज हम आपको बताएंगे परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस कैसे बनवाया जाता है और इसके लिए आवेदन कैसे करे –

Permanent driving license क्या है?

अगर कोई व्यक्ति वाहन चलाने की शुरुवात कर रहा है य सीख रहा है,तो वह learning driving license बनवाते है परंतु लेयरिंग ड्राइविंग लाइसेंस की अवधि सिर्फ 6 महीने की होती है। इस दौरान अगर आपको परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना है तो आप इन 6 महीने के भीतर आसानी से बनवा सकते है। जिस व्यक्ति को वाहन चलाना अच्छे से आता है उसे लंबे समय के लिए परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस जरूर बनवाना चाहिए। लेयरिंग ड्राइविंग लाइसेंस के मुताबिक परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस की अवधि बहुत ज्यादा होती है। परंतु परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए लेयरिंग ड्राइविंग लाइसेंस का होना बहुत ही आवश्यक होता है।

सरकार द्वारा जारी किया गया ड्राइविंग लाइसेंस सभी वाहन चालकों के पास होना ही चाहिए। परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए RTO ऑफिस में बहुत से टेस्ट देने होते है जैसे वह आपको वाहन चला कर दिखाना होगा साथ ही आपकी आंखो का भी टेस्ट वाहा लिया जाता है। आप जिस वाहन के लिए परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना चाहते है वो वाहन आपको अच्छे से चलाना आना चाहिए तब जाकर आपका परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनता है। ये सारी परीक्षा उक्त अधिकारी के सामने ली जाती है।

Read More – Amazon coin क्या है ? Amazon coin का इस्तेमाल क्यों किया जाता है

Permanent driving license कितने समय तक सीमित रहती है?

परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस हमेशा के लिए परमानेंट नहीं रहता इसकी भी एक सीमित समय होती है और समय की अवधि खत्म होने पर लाइसेंस को दुबारा रिन्यूअल करवाना पड़ता है। बड़ी से बड़ी वाहन को चलाने के लिए आपके पास वैद्य ड्राइविंग लाइसेंस होना आवश्यक होता है।

नए नियमों के अनुसार एक परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस 10 साल तक चलती है। अगर किसी व्यक्ति का परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस 25 साल के उम्र में बनती है तो व्यक्ति को 35 वर्ष पूर्ण होने से पहले उसे renewal करवाना पड़ता है। परंतु पहले के वाहन एक्ट में अगर किसी का लाइसेंस 18 की उम्र में बनता था तो उस दुबारा 20 साल की उम्र में renewal करवाना पड़ता था।

भारत में लोगो के लिए जितना जरूरी आधार कार्ड है, उसी प्रकार एक वाहन चालक को ड्राइविंग लाइसेंस रखना बहुत जरूरी होता है। ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने से यह पता चलता है कि आप वाहन चलने के योग्य है। ड्राइविंग लाइसेंस गुम हो जाने पर आपको पुलिस को सूचना जरूर देनी चाहिए क्युकी कोई गलत व्यक्ति आपके लाइसेंस का इस्तेमाल कर सकता है।

Permanent driving license kaise बनवाया जाता है?

  • परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए सबसे पहले। हमें इसके official website में जना होगा।
  • इसका official website होता है parivahan.gov.in , इस पेज पर जाने के बाद आपको ड्राइविंग लाइसेंस वाले ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • फिर आपको ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए apply करना होगा, फिर आपसे मोबाइल नंबर मांगा जाएगा।
  • मोबाइल नंबर देने के बाद आपके फोन पे एक OTP आयेगा उसे fill करके आप दूसरे पेज पर पहुंच जाएंगे।
  • उसके बाद आपको अपने लेयरिंग ड्राइविंग लाइसेंस का नंबर मांगा जाएगा।
  • Permnent driving license के लिए आपका Learning ड्राइविंग लाइसेंस होना बहुत जरूरी है उसके नंबर से ही आगे का process सुरु होता है।
  • उसके बाद आपको आपकी जन्म तारीख देना होगा और जो जो आपसे पूछा जाए सभी चीजों को ध्यान पूर्वक भरे।
  • फिर acknowledgement slip show हो जाती है इसका printout आपको निकाल लेना है।
  • उसके बाद slip show में आपको RTO office में उपस्थित होने का तारीख चुनना होगा, और उसी तारिक को आपको वाहा उपस्थित होना अनिवार्य है।
  • फिर एक आखरी चरण पेमेंट का होता है,इसमें आप अपना fees क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड ,paytm से भी भर सकते है और उसका प्रिंट अपने पास सबूत के तौर पर रख ले ।

समय अनुसार RTO office में आपके टेस्ट में सफल होने के बाद आपका परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बन जाएगा। फिर आप उसे download करके सुरक्षित रख सकते है।